Explore

Search
Close this search box.

Search

Sunday, June 16, 2024, 6:13 pm

Sunday, June 16, 2024, 6:13 pm

Search
Close this search box.
LATEST NEWS
Lifestyle

गीत : डीके पुरोहित

Share This Post

राखी फरमाइश पर सभी पाठकों के लिए मेरा प्रिय गीत :

 

दर्द जब आंखों से छलकता है

 

दर्द जब आंखों से छलकता है

आंसू का दरिया बहता है

मेरे सीने में है जो गुबार भरा

वह बाहर आने को मचलता है

कोई इसे पागलपन कहता है

कोई हंस कर निकलता है

मुझे क्या दुनिया से गिला

ना शिकवा कब कौन बदलता है

चंद शब्दों को हमदम बनाया है

फिर चाहे जमाना छलता है

दर्द जब आंखों से छलकता है

आंसू का दरिया बहता है

मेरे सीने में है जो गुबार भरा

वह बाहर आने को मचलता है

कितनी खुशनसीब हो सुबह भले

इक दिन सूरज ढलता है

प्यार की बातें करने वाला ही

आस्तीन का सांप निकलता है

दो नावों में जो सवार है यहां

वही इक दिन डूब के मरता है

दुश्मन से सावधान रहते हैं सभी

आदमी अपनेपन में ही मरता है

दर्द जब आंखों से छलकता है

आंसू का दरिया बहता है

मेरे सीने में जो गुबार भरा

वह बाहर आने को मचलता है।

00

Rising Bhaskar
Author: Rising Bhaskar


Share This Post

Leave a Comment