Explore

Search
Close this search box.

Search

Friday, May 24, 2024, 7:49 pm

Friday, May 24, 2024, 7:49 pm

Search
Close this search box.
LATEST NEWS
Lifestyle

पवित्र मित्रता के आगे भगवान भी नतमस्तक होते हैं : तारा देवी

Share This Post

श्रीमद भागवत कथा की पूर्ण आरती

(कथा के दौरान श्रीकृष्ण-सुदामा की सजी झांकी।)

राइजिंग भास्कर डॉट कॉम. जैसलमेर

जैसलमेर में चल रही श्रीमद भागवत कथा की सोमवार को पूर्ण आरती हुई। संत तारा देवी ने श्रीकृष्ण-सुदामा मैत्री प्रसंग सुनाते हुए कहा कि पवित्र मित्रता के आगे भगवान भी नतमस्तक होते हैं।

मीडीया प्रभारी प्रमोद जगाणी ने बताया कि रविवार को कथा के सातवें व अंतिम दिन भागवत कथा का मुख्य आकर्षक सुदामा चरित्र रहा। कथा में आयोजन समिति द्वारा संत तारा देवी एवं संत बाईराम का माल्यार्पण कर स्वागत किया गया। आज की पूजा में जजमान किरीट व्यास व अंजलि व्यास ने भाग लिया। जगाणी ने बताया कि सोमवार को कथा के अंतिम दिन पंडाल में सभी श्रद्धालु भाव विभोर हो रहे थे। सुबह गुरु मां तारा देवी ने बाईरामजी आश्रम जाकर गायों को हरा चारा खिलाया।

आश्रम में साथ गए सभी लोगों का भाव विभोर होकर स्वागत किया गया। कथा के दौरान राजस्थान ब्राह्मण महासभा महिला प्रकोष्ठ की गंगा देवी व्यास, अलका व्यास, अंजलि व्यास, प्रेमलता दाधीच, सुमन शर्मा, वंदना जगाणी, कृष्णा केवलिया, दुर्गा व्यास, समाजसेवी महेंद्र व्यास, नरेंद्र व्यास, किरीट व्यास, गोवर्धन थानवी, सरदारमल भोजक, डीपी दाधीच, आरसी व्यास, राधेश्याम शर्मा, चिरंजीव शर्मा, मधुसूदन श्रीपत, मधुसूदन शर्मा आदि ने भाग लिया। भागवत पोथी को श्रद्धा के साथ माहेश्वरी वृद्धा आश्रम से मदन मोहनजी मंदिर में पधराया गया। सभी भागवत प्रेमी शोभायात्रा में साथ रहे। शोभायात्रा में गुरु मां तारा देवी के साथ साथ संत बाईराम एवं बाल भारती महाराज भी विशेष वाहन में सम्मिलित हुए।

Rising Bhaskar
Author: Rising Bhaskar


Share This Post

Leave a Comment