Explore

Search
Close this search box.

Search

Friday, May 24, 2024, 7:35 pm

Friday, May 24, 2024, 7:35 pm

Search
Close this search box.
LATEST NEWS
Lifestyle

कविता : एडवोकेट एनडी निंबावत

Share This Post

जरा रुकें

ले आती है
जिंदगी हमें
कई बार
ऐसी जगह
होते हैं जहाँ
दो रास्ते
और, वो भी सूने
नहीं आता कोई भी
राहगीर नज़र
जो बता सके हमें
अपनी मंजिल की राह
तब हमें रुकना पड़ता
मजबूरन
वैसे तो चलना ही
जिंदगी है
मगर
गलत रास्ते पर
न बढ़े कदम
ये सोचने के लिए
कभी-कभी
रूक जाना ही
बेहतर है ।

रचयिता
एडवोकेट एनडी निंबावत “सागर”

Rising Bhaskar
Author: Rising Bhaskar


Share This Post

Leave a Comment