Explore

Search
Close this search box.

Search

Friday, June 21, 2024, 9:59 pm

Friday, June 21, 2024, 9:59 pm

Search
Close this search box.
LATEST NEWS
Lifestyle

डॉ॰ सावित्री मदन डागा साहित्य सम्मान के प्रविष्टि 20 मार्च तक आमंत्रित,

Share This Post

इस वर्ष भी यह सम्मान कविता विधा की प्रकाशित पुस्तक के लिए दिया जाएगा, प्रशस्ति पत्र और 51 हजार रुपए की राशि पुरस्कार स्वरूप दी जाएगी

डीके पुरोहित. जोधपुर

डॉ. सावित्री मदन डागा साहित्य सम्मान 2024 के लिए प्रविष्टि 20 मार्च तक आमंत्रित की गई है। यह दूसरा साहित्य सम्मान होगा। पहला डॉ. सावित्री मदन डागा साहित्य सम्मान 2023 में ख्यातनाम कवि कृष्ण कल्पित को उनकी पुस्तक हिन्दनामा एक महादेश की गाथा के लिए प्रदान किया गया था। यह अखिल भारतीय स्तर का सम्मान है। इसके तहत प्रशस्ति पत्र और 51 हजार रुपए की राशि सम्मान स्वरूप दी जाती है।

डॉ. मनीषा डागा ने बताया कि हिंदी साहित्य की श्रेष्ठ कृति को सम्मान दिया जाएगा। डॉ. मदन डागा की स्मृति में प्रतिवर्ष एक अखिल भारतीय साहित्य सम्मान प्रदान किया जाता है । ट्रस्ट की ओर से जारी विज्ञप्ति में बताया गया  कि इस वर्ष भी यह सम्मान कविता विधा की प्रकाशित पुस्तक के लिए दिया जाएगा। इसके लिए भारतीय लेखकों, साहित्यकारों और पाठकों से प्रविष्टियां और संस्तुतियां आमंत्रित की गई हैं। प्रविष्टियां और संस्तुतियां निर्धारित प्रपत्र में 20 मार्च 2024 तक भेजी जा सकती हैं । संस्तुति और प्रविष्टि के लिए निर्धारित प्रपत्र एवं नियम गूगल ड्राइव https://docs.google.com/document/d/1zCrPosp0C45pDxQr4PIzVEDtQ8poSYTJ/edit?usp=drivesdk&ouid=106051499163206180021&rtpof=true&sd=true से डाउनलोड किये जा सकते हैं
फेसबुक पेज https://www.facebook.com/savitrimadandaga/
या डॉ. मदन डागा स्मृति ट्रस्ट, 118 बी डॉ. मदन डागा मार्ग, नेहरू पार्क, जोधपुर – 342001 (राजस्थान) से प्राप्त किए जा सकते हैं।
ट्रस्ट की विज्ञप्ति में बताया गया है कि इस साहित्य सम्मान के लिए लेखक भारत का नागरिक होना चाहिए । पुस्तक हिन्दी भाषा में लिखी हुई लेखक की मौलिक काव्य-रचना होनी चाहिए । पाण्डुलिपि, सारांश, संक्षिप्तीकरण, अनुवाद, टीका, संकलन, संपादित पुस्तक, किसी उपाधि के लिए प्रस्तुत या स्वीकृत शोध निबंध, शोध प्रबंध आदि को स्वीकार नहीं किया जाएगा । पुस्तक में किसी भी रूप में अंधविश्वास, सांप्रदायिकता, रूढ़िवाद, जातिवाद, लिंगभेद तथा अलगाव और शोषण को समर्थन या प्रोत्साहन देने वाली विषयवस्तु नहीं होनी चाहिए । पुस्तक कम से कम 96 पृष्ठों की हो । 01 जनवरी 2020 से 31 दिसंबर 2023 के दौरान प्रकाशित पुस्तकें ही स्वीकार्य होंगी । पुस्तक पर ISBN अंकित होना अनिवार्य है । पुस्तक में दिए गए तथ्यों, आंकड़ों, विवरणों आदि के साथ-साथ पुस्तक के संबंध में किसी भी प्रकार के विवाद आदि की ज़िम्मेदारी स्वयं लेखक/संस्तुतिकर्ता की होगी । साहित्य सम्मान के संबंध में ट्रस्ट की चयन समिति और मार्गदर्शक मण्डल का निर्णय अंतिम और सर्वमान्य होगा । किसी भी विवाद आदि की स्थिति में ट्रस्ट और ट्रस्ट द्वारा अधिकृत व्यक्ति को उसके संबंध में अंतिम निर्णय लेने का अधिकार होगा । विवाद की स्थिति में न्याय-क्षेत्र जोधपुर ही होगा । लेखक/संस्तुतिकर्ता को आवेदन-पत्र के साथ पुस्तक की चार प्रतियाँ भेजनी अनिवार्य है । एक लेखक या संस्तुतिकर्ता इस सम्मान के लिए केवल एक पुस्तक ही भेज सकता है । अंतिम तिथि के बाद प्राप्त प्रविष्टियों/संस्तुतियों पर विचार नहीं किया जाएगा । निर्णायक मण्डल और ट्रस्ट इन नियमों के अतिरिक्त पात्रता के अन्य आधार तय करने के लिए स्वतंत्र हैं ।

Rising Bhaskar
Author: Rising Bhaskar


Share This Post

Leave a Comment