Explore

Search
Close this search box.

Search

Saturday, June 22, 2024, 12:00 am

Saturday, June 22, 2024, 12:00 am

Search
Close this search box.
LATEST NEWS
Lifestyle

NIFD : फैशन डिजाइन और इंटीरियर डिजाइन का बेहतरीन इंस्टीट्यूट, जहां सपने होते हैँ साकार

Share This Post

नवीन मोहनोत ने 2006 में 2 छात्रों से इंस्टीट्यूट शुरू किया और आज 200 स्टूडेंट्स अपना फ्यूचर बनाने में जुटे हैं, मोहनोत ने सफलता को नए आयाम दिए

डीके पुरोहित. जोधपुर

आइए मिलिए नवीन मोहनोत से। ये वो शख्स है जिन्होंने जोधपुर को फैशन डिजाइन और इंटीरियर डिजाइन में इंटरनेशनल पहचान दी है। नवीन ने उस समय जोधपुर में NIFD की स्थापना की जब फैशन डिजाइन के बारे में लोग ज्यादा नहीं जानते थे। लेकिन नवीन के मन में कुछ नया करने की जिज्ञासा थी। उन्होंने अपने गुरु की सलाह से फैशन डिजाइन के फील्ड में कदम रखते हुए जोधपुर में NIFD की स्थापना की। NIFD के डायरेक्टर मोहनोत बताते हैं कि उनकी विशेषज्ञता फैशन और इंटीरियर डिजाइन के क्षेत्र में है। संस्थान इन क्षेत्रों में अपने छात्रों के समग्र विकास पर ध्यान केंद्रित करता है। उनके मार्गदर्शन में, छात्रों ने इन क्षेत्रों में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है। NIFD वो इंस्टीट्यूट है जहां छात्र-छात्राओं का सपना साकार हो रहा है।

उनके संस्थान के छात्रों ने लंदन फैशन वीक, मिलान फैशन वीक और लैक्मे फैशन वीक में भी खुद को प्रस्तुत किया है। नवीन ने बताया कि उनके संस्थान के 60 से अधिक छात्र इस उद्योग में विभिन्न देशों में काम कर रहे हैं। NIFD जोधपुर को पिछले कुछ वर्षों से ‘सर्वश्रेष्ठ गतिविधि केंद्र’ के रूप में भी मान्यता दी गई है। संस्थान को इस उद्योग में अपने काम के लिए कई मान्यताएं मिली हैं। नवीन ने बताया कि उन्हें डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम पुरस्कार, राष्ट्रीय पुरस्कार 2024 और बिग एफएम द्वारा बिग इम्पैक्ट अवार्ड से सम्मानित किया गया है। उन्हें जेसीआई उत्कृष्ट पुरस्कार और कई अन्य पुरस्कार भी मिले।

रोजगार बढ़ाने के लिए ब्यूटी और मैनेजमेंट कोर्स भी शुरू करेंगे

नवीन मोहनोत बताते हैँ कि उनकी टीम और NIFD परिवार ने उन्हें आज जहां तक पहुंचाया है, वहां तक पहुंचने में हमेशा उनका भरपूर साथ दिया है। नवीन ने बताया कि एनआईएफडी की स्थापना 2006 में जोधपुर में हुई थी। वर्तमान में वे यहां फैशन डिजाइन और इंटीरियर डिजाइन के कोर्स कराते हैं। हालांकि, 2024 में वे अपने छात्रों के कौशल और रोजगार क्षमता को बढ़ाने के लिए ब्यूटी और मैनेजमेंट कोर्स भी शुरू करेंगे। नवीन ने बताया कि इस संस्थान में बैंगलुरु, गोवा, चेन्नई, केरल, सूरत आदि कई शहरों से छात्र पढ़ते हैं। छात्रों के अनुकूल माहौल छात्रों को यहां आने के लिए प्रेरित करता है।

गेस्ट लेक्चरर और कॉरपोरेशन के साथ गठजोड़ किए

नवीन ने बताया कि संस्थान ने गेस्ट लेक्चरर और कॉरपोरेशन के साथ कई गठजोड़ किए हैं। यहां पढ़ने वाले छात्रों को कॉरपोरेशन से काफी मदद मिलती है और यहां तक ​​कि उन्हें फैशन वीक में अपने उत्पाद दिखाने का मंच भी मिलता है। संस्थान फैशन और इंटीरियर डिजाइन के छात्रों को हर तरह का व्यावहारिक अनुभव प्रदान करता है। चाहे वह एप्लिक वर्क हो, सिलाई का काम हो, टाई एंड डाई का काम हो या कुछ और संस्थान में सभी सुविधाएं उपलब्ध हैं।

और इस तरह एनआईएफडी की जोधपुर में स्थापना हुई 

जोधपुर हस्तशिल्प, कपड़ा और निर्यात इकाइयों का केंद्र है। इसलिए छात्रों को इकाइयों में काम करके और सीखकर व्यावहारिक ज्ञान का अच्छा अनुभव मिलता है। अपने बचपन को याद करते हुए नवीन कहते हैं कि उनका जन्म और पालन-पोषण जोधपुर में ही हुआ। उनके दादा और पिता ने ट्रांसपोर्ट का व्यवसाय स्थापित किया था। नवीन ने बताया कि उन्होंने कुछ समय के लिए अपने परिवार के ट्रांसपोर्ट व्यवसाय में काम करने की कोशिश की, लेकिन स्पष्ट रूप से इसमें उनकी कोई खास दिलचस्पी नहीं थी। तभी उन्होंने दिल्ली और बॉम्बे जैसे शहरों में अपनी पहली नौकरी करने का फैसला किया। उस दौरान वे बीमार पड़ गए और उनके दिमाग में एक विचार आया कि सिर्फ पैसे कमाने के लिए अपने परिवार से दूर क्यों रहा जाए? जल्द ही ठीक होने पर उन्होंने वापस जोधपुर आने का फैसला किया। जोधपुर वापस आने के बाद, नवीन ने अपने कॉलेज के प्रोफेसर डॉ. जीएल मेहता से मार्गदर्शन लिया और उनसे बहुत कुछ सीखा। उस दौरान, उनके काम की प्रशंसा उनके वरिष्ठ डॉ. डीसी संचेती ने भी की, जिन्होंने नवीन को अपने साथ काम करने के लिए कहा। समानांतर रूप से, उन्होंने एक कंप्यूटर सेंटर खोला जहाँ वह छात्रों को वीडियो कैसेट से सीडी में ट्रांसफर करना, वीडियो मिक्सिंग और फोटो मिक्सिंग भी सिखाते थे। अपने कार्य अनुभव के बारे में अधिक बात करते हुए, नवीन ने बताया कि NIFD से पहले, वह नाकोड़ा पार्श्वनाथ जैन महाविद्यालय में काम कर रहे थे। उस दौरान इस संस्थान के प्रिंसिपल डॉ. वीके सिंघल ने उन्हें अपनी सकारात्मक ऊर्जा को बड़े कामों में लगाने के लिए प्रेरित किया। तभी मोहनोत ने एनआईएफडी-फ्रैंचाइज़ी लेने और फैशन और इंटीरियर डिज़ाइन के क्षेत्र में काम करने का फ़ैसला किया। इस संस्थान की शुरुआत महज़ 2 छात्रों से हुई थी और आज इसमें 200 से ज़्यादा छात्र हैं। सभी सीटें भर जाने के कारण उन्हें एडमिशन लेने से मना करना पड़ता है। यहां पढ़ने वाले छात्र अपने करियर में काफ़ी अच्छा कर रहे हैं और शिक्षक भी काफ़ी प्रतिभाशाली और सहयोगी हैं। यहां पढ़ाने वाले शिक्षकों में लंदन, दिल्ली और कोलकाता आदि से पास हुए शिक्षक शामिल हैं।

एक मूल हमेशा कॉपी से अधिक मूल्यवान होता है 

अपने रोल मॉडल के बारे में बात करते हुए नवीन कहते हैं कि उन्हें हमेशा अलग-अलग इंडस्ट्री के अलग-अलग लोगों से प्रेरणा मिलती रही है। उनके पिता कानराज मोहनोत और कॉलेज के प्रोफ़ेसर डॉ. जीएल मेहता आज भी उन्हें प्रेरित करते रहे हैं। फैशन के क्षेत्र में कदम रखने पर कई लोगों की राय सामने आई। ऐसे मुश्किल समय में उनके बिज़नेस गाइड मनीष मेहता और सुनील तलवार ने भी उन्हें काफ़ी प्रेरित किया और उनमें सकारात्मकता भर दी। उन्होंने कई बार एक साथ कई फैशन शो किए हैं, जिसमें कई बार 15,000 लोगों की भीड़ को संबोधित किया है। नवीन ने यह भी बताया कि श्री सुचित भंडारी और विधान भंडारी ने भी NIFD जोधपुर को आज इन ऊंचाइयों तक पहुंचाने में उनकी बहुत मदद की है। नवीन मोहनोत का कहना है कि “अपने आप बने रहें क्योंकि एक मूल हमेशा एक कॉपी से अधिक मूल्यवान होता है।

Rising Bhaskar
Author: Rising Bhaskar


Share This Post

Leave a Comment