Explore

Search
Close this search box.

Search

Friday, June 21, 2024, 1:34 am

Friday, June 21, 2024, 1:34 am

Search
Close this search box.
LATEST NEWS
Lifestyle

रणभेरि 2023 का विश्लेषण : भाजपा की 83 उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट में से 45 उम्मीदवार चुनाव हारते नजर आ रहे हैं

Share This Post

राजेंद्र राठौड़, कालीचरण सर्राफ, वासुदेव देवनानी जैसे दिग्गज चुनाव हारते हुए नजर आ रहे हैं, कांग्रेस से मनीषा पंवार और महेंद्र विश्नोई भी चुनाव हारते हुए नजर आ रहे हैँ। पोकरण से अभी कांग्रेस ने टिकट फाइनल नहीं किया है, मगर महंत प्रतापपुरी महाराज चुनाव जीतते हुए नजर आ रहे हैं। बीकानेर पश्चिम से जेठानंद व्यास भाजपा से विनिंग कैंडिटेट माने जा रहे हैं।  

डीके पुरोहित. जोधपुर

राइजिंग भास्कर ने भाजपा की दूसरी सूची का विश्लेषण किया। जहां पार्टी के उम्मीदवार गत चुनाव में 10 हजार से अधिक वोटों से जीते हैं या कांग्रेस के उम्मीदवार 10 हजार से कम वोटों से जीते हैं। वहां भाजपा को सशक्त उम्मीदवार माना गया है। यानी जीत का आधार 10 हजार वोट कम से कम रखा गया है। भारतीय जनता पार्टी के 45 उम्मीदवार ऐसे हैं जो इस कसौटी पर खरा नहीं उतरे हैं। इस विश्लेषण को यूं समझ सकते हैं। मान लीजिए कहीं किसी विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस उम्मीदवार गत चुनाव में 10 हजार से कम वोटों से जीता है तो वह सीट भाजपा के खाते में डाल दी गई है। और अगर कहीं भाजपा का उम्मीदवार गत चुनाव में अच्छा प्रदर्शन कर 10 हजारे से अधिक वोटों से जीता है तो वह उम्मीदवार भी सशक्त मानकर उस सीट पर भाजपा को जीत का आधार माना गया है। इस विश्लेषण में अगर किसी प्रत्याशी की सीट बदल दी गई है तो सामने वाली पार्टी के कैंडिडेट का गत चुनाव में प्रदर्शन देखा गया है। अगर आगामी चुनाव में यही रुझान आते हैँ तो कालीचरण सर्राफ, राजेंद्र राठौड़, हरलाल सहारण, वासुदेव देवनानी चुनाव हारते हुए नजर आ रहे हैं। इसी तरह बात कांग्रेस की सूची की भी साथ कर लें तो दिव्या मदेरणा, अशोक गहलोत, गोविंद डोटासरा चुनाव जीत रहे हैं। वहीं मनीषा पंवार चुनाव हार रही है। महेंद्र विश्नोई भी चुनाव हार रहे हैँ। हालांकि अभी सभी उम्मीदवारों की दोनों ही पार्टियों ने टिकट घोषित नहीं किए हैं। अन्य दलों के टिकट भी फाइनल नहीं हुए हैं। इसलिए किसी एक निष्कर्ष पर नहीं पहुंच सकते हैं। ना ही यह परिणाम फाइनल कहा जा सकता। लेकिन हमारे विश्लेषण का आधार विनिंग कैंडिडेट का 10 हजार वोटों का मार्जिन रखा गया है। चुनाव के कई फैक्टर काम करते हैँ। इसलिए हमारा प्रयास केवल यह रुझान दिखाना है कि 10 हजार वोटों का मार्जिन लेकर पिछला चुनाव जीतने वाले उम्मीदवारों के वोट कटते भी हैं तो कुछ वोटों के अंतर से वे चुनाव जीत सकते हैं। इस बार राजेंद्र राठौड़ को तारानगर से टिकट दी गई है। यहां भी वही फैक्टर रखकर विश्लेषण किया गया है। यानी जीत हार का मार्जन 10 हजार रखा गया है।

जानिए कौन उम्मीदवार कहां से जीत-हार रहा है

1-रायसिंह नगर – बलवीर लूथरा-जीत

2-अनूपगढ़-संतोष बावरी-जीत

3-संगरिया-गुरदीप सिंह-हार

4-पीलीबंगा-धर्मेंद्र मोची-हार

5-नोहर-अभिषेक माटोलिया-हार

6-बीकानेर पश्चिम-जेठानंद व्यास-जीत

7-बीकानेर पूर्व – सिद्धि कुमारी-हार

8-लूणकरणसर-सुमित गोदारा-जीत

9-नोखा-बिहारीलाल-हार

10-तारानगर-राजेंद्र राठौड़-हार

11-चूरू -हरलाल सहारण-हार

12-रतनगढ़-अभिषेक महर्षि-जीत

13-सूरजगढ़-संतोष अहलावत-हार

14-धोद-गोवर्धन वर्मा-हार

15-नीमकाथाना-प्रेमसिंह बाजौर-हार

16-श्री माधोपुर-झाबर सिंह-हार

17-चौमूं-रामलाल शर्मा-हार

18-फुलेरा-निर्मल कुमावत-हार

19-आमेर-सतीश पूनिया-जीत

20-मालवीय नगर-कालीचरण सर्राफ- हार

21-सांगानेर-भजनलाल शर्मा-जीत

22-बगरू-कैलाशचंद वर्मा-जीत

23-चाकसू-रामावतार बैरवा-हार

24-मुंडावर-मंजीत धर्मपाल चौधरी-जीत

25-थानागाजी-हेमसिंह भडाना-हार

26-अलवर शहर-संजय शर्मा-जीत

27-डीग कुम्हेर- डॉ. शैलेष सिंह-जीत

28-धौलपुर-शिवचरण कुशवाह-हार

29-खंडार-जितेंद्र कुमार गोठवाल-हार

30-मालपुरा-कन्हैयालाल-जीत

31-पुष्कर-सुरेश सिंह- हार

32-अजमेर उत्तर-वासुदेव देवनानी-हार

33-अजमेर दक्षिण-अनिता भदेल-हार

34-नसीराबाद-रामस्वरूप लांबा-जीत

35-ब्यावर-शंकरसिंह रावत-हार

36-जायल-डॉ. मंजू बाघमार-हार

3्र7-नागौर-डॉ. ज्योति मिर्धा-जीत

38-मेड़ता-लक्ष्मणराम मेघवाल-हार

39-मकराना सुमिता भींचर-हार

40-परबतसर-मानसिंह किनसरिया-हार

41-नावां-विजयसिंह -जीत

42-जैतारण-अविनाश गहलोत-जीत

43-सोजत-शोभा चौहान-जीत

44-पाली-पुष्पेंद्रसिंह-जीत

45-सूरसागर-देवेंद्र जोशी-हार

46-पोकरण-महंत प्रतापपुरी-जीत

47-सिवाना-हमीर सिंह भायल-हार

48-चौहटन-आदूराम मेघवाल-जीत

49-आहोर-छगनसिंह राजपुरोहित-जीत

50-जालौर-जोगेश्वर गर्ग-जीत

51-पिंडवाड़ा-समाराम गरासिया-जीत

52-सिरोही-ओटाराम देवासी-हार

53-रेवदर-जगसीराम-जीत

54-गोगुंदा-प्रतापलाल गमेती-हार

55-झाड़ौल-बाबूलाल खराड़ी-जीत

56-उदयपुर ग्रामीण-फूलसिंह मीणा-जीत

57-उदयपुर शहर-ताराचंद जैन-हार

58-सलूंबर-अमृतलाल मीणा -जीत

59-धरियावाद-कन्हैयालाी मीणा-हार

60-आसपुर-गोपीचंद मीणा-हार

61-गढ़ी-कैलाशचंद मीणा-जीत

62-घाटोल- मानशंकर नीनामा-हार

63-चित्तौड़गढ़-नरपतसिंह राजवी-जीत

64-निंबाहेड़ा-श्रीचंद कृपलानी-हार

65-बड़ी सादड़ी-गौतमसिंह दक-हार

66-प्रतापगढ़-हेमंत मीणा-हार

67-राजसमंद-दीप्ति माहेश्वरी-जीत

68-कुुंभलगढ़-सुरेंद्रसिंह राठौड़-जीत

69-नाथद्वारा-विश्वराजसिंह-हार

70-आसींद-झब्बरसिंह-हार

71-भीलवाड़ा-विट्‌ठल शंकर अवस्थी-जीत

72-जहाजपुर-गोपीचंद मीणा-जीत

73-मांडलगढ़-गोपाललाल शर्मा-जीत

74-बूंदी-अशोक डोगरा-हार

75-सांगोद-हीरालाल नागर-जीत

76-कोटा दक्षिण-संदीप शर्मा-हार

77-छबड़ा-प्रतापसिंह सिंघवी-हार

78-डग-कालूराम मेघवाल-जीत

79-झालरापाटन-वसुंधरा राजे-जीत

80-खानपुर-नरेंद्र नागर-हार

81-मनोहरथाना-गोविंद रानीपुरिया-जीत

82-सुजानगढ़-मनोज मेघवाल-हार

83-मंडावा-रीटा चौधरी-हार

कांग्रेस की सूची में जीत-हार की संभावना

1-नोहर-अमित चाचाण-जीत

2-कोलायत-भंवरसिंह भाटी-जीत

3-सादुलपुर-कृष्णा पूनिया-जीत

4-सुजानगढ़-मनोज मेघवाल-जीत

5-मंडावा-रीटा चौधरी-जीत

6-लक्ष्मणगढ़-गोविंदसिंह डोटासरा-जीत

7-विराटनगर-इंद्रराज गुर्जर-जीत

8-मालवीय नगर-अर्चना शर्मा-जीत

9-सांगानेर-पुष्पेंद्र भारद्वाज-हार

10-मुंडावर-ललित यादव-हार

11-अलवर ग्रामीण-टीकाराम जूली-जीत

12-सिकराय-ममता भूपेश-जीत

13-सवाईमाधोपुर-दानिश अबरार-जीत

14-टाेंक-सचिन पायलट-जीत

15-लांडनूं-मुकेश भाकर-जीत

16-डीडवाना-चेतन डूडी-जीत

17-जायल-मंजू मेघवाल-जीत

18-डेगाणा-विजयपाल मिर्धा-जीत

19-परबतसर-रामनिवास गावड़िया-जीत

20-ओसियां-दिव्या मदेरणा-जीत

21-सरदारपुरा-अशोक गहलोत-जीत

22-वल्लभनगर- प्रीति शक्तावत-हार

23-डूंगरपुर-गणेश घोघरा-जीत

24-बागीदोरा-महेंद्रजीत मालवीय-जीत

25-कुशलगढ़-शर्मिला खड़िया-हार

26-भीम-सुदर्शनसिंह रावत-हार

27-नाथद्वारा-डॉ. सीपी जोशी-जीत

28-मांडलगढ़-विवेक धाकड़-हार

29-हिंडौली-अशोक चांदणा-जीत

30-प्रतापगढ़-रामलाल मीणा-जीत

31-जोधपुर शहर-मनीषा पंवार-हार

32-लूणी -महेंद्र विश्नोई-हार

33-बायतु-हरीश चौधरी-जीत

(नोट : हमारा उद्देश्य किसी भी प्रकार से चुनाव को प्रभावित करना नहीं है। यह एक प्रकार का विश्लेषण है। इसे उसी संदर्भ में लिया जाए। यह हमारे निजी विचार भी नहीं है, बस तथ्यात्मक विश्लेषण है। यह किसी प्रकार का एक्जिट पोल भी नहीं है। इसे चुनाव आचार संहिता की रिपोर्टिंग का उल्लंघन नहीं माना जा सकता। क्योंकि यह तथ्यों पर आधारित एक संकेत मात्र है ना कि चुनाव परिणाम। इसे उसी संदर्भ में लिया जाए। )

Rising Bhaskar
Author: Rising Bhaskar


Share This Post

Leave a Comment