Explore

Search
Close this search box.

Search

Friday, June 21, 2024, 10:13 pm

Friday, June 21, 2024, 10:13 pm

Search
Close this search box.
LATEST NEWS
Lifestyle

श्री जहाज मन्दिर माण्डवला में भव्य मेला 21 फरवरी से

Share This Post

दीपक कुमार सिंघवी. जोधपुर

श्री जैन श्वेताम्बर प्राचीन तीर्थ जहाज मन्दिर श्री जिनक्रान्तीसागर सुरी स्मारक ट्रस्ट जहाज मन्दिर माण्डलवा की 25वी वर्षगाठ के उपलक्क्ष में चार दिवसीय भव्य कार्यक्रम दिनांक 21 फरवरी 2024 से 24 फरवरी 2024 तक आयोजित किया जायेगा। श्री जिनमणिप्रभसुरीश्वरजी म.स.की आज्ञा मे प.पू. बहन म. साध्वी डा. विद्युत्प्रभाजी श्रीजी म.सा. के पावन सानिध्य में आयोजित किया जायेगा।
सम्पुर्ण मेला सयोजकं संघवी हंसराज मुथा,माण्डवला तथा सह सयोजक भक्तरत्न सुरजमल देवडा धोका खाडंक परिवार की ओर से मेले की तैयारिया जोरों से चल रही है
माण्डलवा तीर्थ के ट्रस्टी श्री अनिल सिंघवी एवं दीपचंद साखला जोधपुर से मीडिया को बताया कि मंगल महोत्सव कार्यकम के तहत् दिनांक 21 फरवरी को प्रातः 9.00 बजे प्रवचन, 12 बजे नवकारसी दोपहर 2 बजे दादा गुरूदेव की पुजा तथा शाम को आरती आंगी रचना भव्य रोशनी एवं प्रभु भक्ति आयोजित की जायेगी दिनांक 22 फरवरी 2024 को भव्य वरघोडा एवं 12.39 पर शान्ति सनात्र महापुजन के बाद धर्म सभा शाम को आरती आंगी रचना भव्य रोशनी एवं प्रभु भक्ति दिनांक 23 फरवरी 2024 मन्दिर की 25 वी वर्षगाठ के शुभ अवसर पर प्रात 9.00 बजे घ्वज रोहण के पश्चात प्रवचन का कार्यक्रम तथा सुबह 10.00 बजे 18 अभिषेक पुजा का आयोजन एवं शुभ वेला में ध्वजारोहण निमार्णाधीन अराधना भवन में गुरू भगवंत व साध्वी भंगवत के पंगलिये होगा एवं शाम को आरती आंगी रचना भव्य रोशनी एवं प्रभु भक्ति की जायेगी दिनांक 24.02.2024 को समापन के अवसर पर प्रातः 9.00 बजे प्रवचन 10.00 बजे अतंराय कर्म पूजन 12.00 बजे स्वामीवात्सलय आयोजित होगा।
इस चार दिवसीय भव्य कार्यक्रम में समस्त पदाधिकारीगण, कार्यकारणी एवं ट्रस्ट मण्डल के समस्त सदस्यो का पुर्ण सहयोग कर रहे है।
जोधपुर से दिनांक 23 फरवरी 2024 शुक्रवार को प्रातः 6.30 बजे महामन्दिर से माण्डलवा हेतु एक बस की व्यवस्था की जा रही है जो रात्रि में विश्राम माण्डलवा में होगा तथा 24 फरवरी को पुर्णिमा के अवसर पर प्रातः माण्डलवा से नाकोडाजी सेवा पुजा दर्शन के साथ सायः जोधपुर पहुचेगी। माण्डलवा तीर्थ में ठहरने भोजन की भी समुचित व्यवस्था है।

Rising Bhaskar
Author: Rising Bhaskar


Share This Post

Leave a Comment