Explore

Search
Close this search box.

Search

Thursday, June 20, 2024, 11:27 pm

Thursday, June 20, 2024, 11:27 pm

Search
Close this search box.
LATEST NEWS
Lifestyle

गीत : अनिल भारद्वाज

Share This Post

प्यासी धरती मुरझा मधुवन

प्यासी धरती तुझे पुकारे,
प्यासी नदिया तुझे पुकारे,
आ रे मेघा अब तो आ रे।

बादल नील गगन पर छाते,
संग आंधियों को ले आते,
तेरे राजदूत बनकर वे,
झूठे आश्वासन दे जाते।

सूखी पोखर तुझे पुकारे,
आ रे मेघा अब तो आ रे।

कोयल सूखी अमराई में,
विरह गीत गाती रहती है,
और मोरनी खुली चोंच से,
अंबर को देखा करती है।

प्यासा चातक तुझे पुकारे,
आ रे मेघा अब तो आ रे।

बूंदों की गगरी सिर पर रख,
मानसून की दासी आतीं,
मधुबन के मुरझाये मुख पर,
आकर छींटे से दे जातीं।

झुलसी कोंपल तुझे पुकारे,
आ रे मेघा अब तो आ रे।

प्यासी धरती तुझे पुकारे,
प्यासी नदिया तुझे पुकारे,
आ रे मेघा अब तो आ रे।
0000
गीतकार : अनिल भारद्वाज,

एडवोकेट, हाईकोर्ट, ग्वालियर (मध्यप्रदेश)।
Rising Bhaskar
Author: Rising Bhaskar


Share This Post

Leave a Comment